Changes

Jump to navigation Jump to search
सुधार जारी
Line 7: Line 7:     
== संस्कार ==
 
== संस्कार ==
सनातन धर्म में संस्कारों का बहुत महत्व है।संस्कारों का उद्देश्य मानव की अशुभ शक्तियों से रक्षा करना एवं अभीष्ट इच्छाओं की प्राप्ति कराना है।गौतम ऋषि के मत में चालीस प्रकार के संस्कार हैं-
+
सनातन धर्म में संस्कारों की अत्यन्त आवश्यहता एवं परम उपयोगिता है।संस्कार सम्पन्न मानव सुसंस्कृत और चरित्रवान् होता है।सम् उपसर्ग पूर्वक कृ धातु से घञ् प्रत्यय होनेसे संस्कार शब्द निष्पन्न होता है। जिसका सामान्य अर्थ है शारीरिक और मानसिक मलोंका अपाकरण । मानवजीवनके पवित्रकर और चमत्कार- विधायक विशिष्टकर्मको संस्कार कहते हैं। हमारे ऋषियोंने मानवजीवनमें गुणाधानके लिये संस्कारोंका विधान किया। संस्कारसे दो कर्म सम्पन्न होते हैं-मलापनयन और गुणाधान। प्रत्येक संस्कारों का उद्देश्य मानव की अशुभ शक्तियों से रक्षा करना एवं अभीष्ट इच्छाओं की प्राप्ति कराना है।अत: मानवजीवनमें संस्कारोंका अत्यन्त महत्त्व है।गौतम ऋषि के मत में चालीस प्रकार के संस्कार हैं-
* संस्कार
+
* संस्कार (गौतम ऋषि के मत में १६ प्रमुख संस्कारों में से १० संस्कारों का समावेश किया गया है।
* वेदव्रत
+
* वेदव्रत(चार वेदों का व्रत)
* पञ्चमहायज्ञ
+
* पञ्चमहायज्ञ (पांच दैनिक महायज्ञ)
* पाकयज्ञ
+
* पाकयज्ञ (सात पाक यज्ञ)
* हवियज्ञ
+
* हवियज्ञ (सात हवियज्ञ)
* सोमयज्ञ
+
* सोमयज्ञ ( सात सोम यज्ञ)
    
== पञ्चमहायज्ञों का महत्व ==
 
== पञ्चमहायज्ञों का महत्व ==
Line 59: Line 59:  
भूतयज्ञ में बलि-वैश्वदेव का विधान किया गया है जिससे कीट, पक्षी, पशु आदि की तृप्ति एवं सेवा होती है।
 
भूतयज्ञ में बलि-वैश्वदेव का विधान किया गया है जिससे कीट, पक्षी, पशु आदि की तृप्ति एवं सेवा होती है।
   −
भूतयज्ञ एक ऐसा व्रत है, जिसमें सभी प्रकराके जीवों का पोषण हो जाता है।मनुष्य चाण्डाल गाय, बैल, कुत्ता, कीट-पतंग आदि जितने भी भूत (प्राणी) हैं, उन सभीको सावधानीपूर्वक अन्न, जल, पास आदि भोज्य देना इस यजका उद्देश्य है। भूतयज्ञका यह सोश्य उपनिषद्के 'सर्वे भवन्तु सुखिन: ' वाक्यमे ही सन्निहित है। सभी प्राणियोंके पोषक होने के कारण 'पुरुष' शब्दकी सार्थकता कही गयी है-'पूरयति सर्वमिति पुरुषः।'
+
भूतयज्ञ एक ऐसा व्रत है, जिसमें सभी प्रकराके जीवों का पोषण हो जाता है।मनुष्य चाण्डाल गाय, बैल, कुत्ता, कीट-पतंग आदि जितने भी भूत (प्राणी) हैं, उन सभीको सावधानीपूर्वक अन्न, जल, पास आदि भोज्य देना इस यजका उद्देश्य है। भूतयज्ञका यह सोश्य उपनिषद्के सर्वे भवन्तु सुखिन: वाक्यमे ही सन्निहित है। सभी प्राणियोंके पोषक होने के कारण 'पुरुष' शब्दकी सार्थकता कही गयी है-'पूरयति सर्वमिति पुरुषः।'
 
====नृयज्ञ====
 
====नृयज्ञ====
 
मनुष्ययज्ञ अतिथि-सेवा-रूप है। अतिथि सेवा करने का बड़ा ही महत्त्व कहा गया है। जिसके आने की कोई तिथि निश्चित न हो वह अतिथि कहा जाता है।यदि कोई अतिथि किसी के घर से असन्तुष्ट होकर जाता है तो उसका सब संचित पुण्य नष्ट हो जाता है<blockquote>आशाप्रतीक्षे संगतं सूनृतां चेष्टापूर्ते पुत्रपशूश्च सर्वान् । एतद् वृडते पुरुषस्याल्पमेधसो यस्यानश्नन् वसति ब्राह्मणो गृहे ॥(कठो०१।१८)</blockquote>जिसके घर में ब्राह्मण अतिथि बिना भोजन किये रहता है, उस पुरुष की आशा, प्रतीक्षा, संगत एवं प्रिय वाणी से प्राप्त होने वाले समस्त इष्टापूर्तफल तथा पुत्र, पशु आदि नष्ट हो जाते हैं।
 
मनुष्ययज्ञ अतिथि-सेवा-रूप है। अतिथि सेवा करने का बड़ा ही महत्त्व कहा गया है। जिसके आने की कोई तिथि निश्चित न हो वह अतिथि कहा जाता है।यदि कोई अतिथि किसी के घर से असन्तुष्ट होकर जाता है तो उसका सब संचित पुण्य नष्ट हो जाता है<blockquote>आशाप्रतीक्षे संगतं सूनृतां चेष्टापूर्ते पुत्रपशूश्च सर्वान् । एतद् वृडते पुरुषस्याल्पमेधसो यस्यानश्नन् वसति ब्राह्मणो गृहे ॥(कठो०१।१८)</blockquote>जिसके घर में ब्राह्मण अतिथि बिना भोजन किये रहता है, उस पुरुष की आशा, प्रतीक्षा, संगत एवं प्रिय वाणी से प्राप्त होने वाले समस्त इष्टापूर्तफल तथा पुत्र, पशु आदि नष्ट हो जाते हैं।
   −
अथर्ववेद के अतिथिसूक्त में  कहा गया है कि-<blockquote>एते वै प्रियाश्चाप्रियाश्च स्वर्गलोकं गमयन्ति यदतिथयः।सर्वो वा एष जग्धपाप्मा यस्यान्नमश्नन्ति ॥(अथर्ववेद ५८)</blockquote>अतिथिप्रिय होना चाहिए भोजन कराने पर वह यजमान को स्वर्ग पहुंचा देता है और उसका पाप नष्ट कर देता है।
+
अथर्ववेद के अतिथिसूक्त में  कहा गया है कि-<blockquote>एते वै प्रियाश्चाप्रियाश्च स्वर्गलोकं गमयन्ति यदतिथयः।सर्वो वा एष जग्धपाप्मा यस्यान्नमश्नन्ति ॥(अथर्ववेद ५८)</blockquote>अतिथि फ्स्प्रिय होना चाहिए भोजन कराने पर वह यजमान को स्वर्ग पहुंचा देता है और उसका पाप नष्ट कर देता है।
    
== उद्धरण ==
 
== उद्धरण ==
 
[[Category:हिंदी भाषा के लेख]]
 
[[Category:हिंदी भाषा के लेख]]
153

edits

Navigation menu