Changes

Jump to navigation Jump to search
सुधार जारि
Line 4: Line 4:  
सनातन धर्म में गृहस्थमात्र के लिये पञ्चमहायज्ञ का विधान बताया गया है।गृहस्थ प्रतिदिन झाडू-पोंछा, अग्निकुण्ड, चक्की, सूप, जलघट आदि स्थान या सामग्रीके द्वारा प्राणियोंको आहत करता है।शास्त्रोंमें ऐसा कहा गया है कि गृहस्थके घर में पॉंच स्थल ऐसे हैं जहां प्रतिदिन न चाहने पर भी जीव हिंसा होने की सम्भावना रहती है-<blockquote>पञ्च सूना गृहस्थस्य चुल्ली पेषण्युपस्करः । कण्डनी चोदकुम्भश्च बध्यते यास्तु वाहयन् ।।</blockquote><blockquote>तासां क्रमेण सर्वासां निष्कृत्यर्थं महर्षिभिः । पञ्च क्लृप्ता महायज्ञाः प्रत्यहं गृहमेधिनाम् ।।</blockquote>'''अर्थ'''-चूल्हा(अग्नि जलानेमें) , चक्की(पीसने में), झाडू (सफाईकरने में), ऊखल (कूटनेमें) तथा घड़ा (जल रखनेके स्थान, जलपात्र रखनेपर नीचे जीवोंके दबने) से जो पाप होते हैं इस तरहकी क्रियाओंके माध्यमसे सूक्ष्म जीव-जन्तुओंकी हिंसा हो जाती है। ऐसी हिंसाको जिसे कि जीवनमें टाला नहीं जा सकता, शास्त्रों में सूना कहा गया है। इसकी संख्या पाँच होनेसे ये पंचसूना कहलाते हैं।  
 
सनातन धर्म में गृहस्थमात्र के लिये पञ्चमहायज्ञ का विधान बताया गया है।गृहस्थ प्रतिदिन झाडू-पोंछा, अग्निकुण्ड, चक्की, सूप, जलघट आदि स्थान या सामग्रीके द्वारा प्राणियोंको आहत करता है।शास्त्रोंमें ऐसा कहा गया है कि गृहस्थके घर में पॉंच स्थल ऐसे हैं जहां प्रतिदिन न चाहने पर भी जीव हिंसा होने की सम्भावना रहती है-<blockquote>पञ्च सूना गृहस्थस्य चुल्ली पेषण्युपस्करः । कण्डनी चोदकुम्भश्च बध्यते यास्तु वाहयन् ।।</blockquote><blockquote>तासां क्रमेण सर्वासां निष्कृत्यर्थं महर्षिभिः । पञ्च क्लृप्ता महायज्ञाः प्रत्यहं गृहमेधिनाम् ।।</blockquote>'''अर्थ'''-चूल्हा(अग्नि जलानेमें) , चक्की(पीसने में), झाडू (सफाईकरने में), ऊखल (कूटनेमें) तथा घड़ा (जल रखनेके स्थान, जलपात्र रखनेपर नीचे जीवोंके दबने) से जो पाप होते हैं इस तरहकी क्रियाओंके माध्यमसे सूक्ष्म जीव-जन्तुओंकी हिंसा हो जाती है। ऐसी हिंसाको जिसे कि जीवनमें टाला नहीं जा सकता, शास्त्रों में सूना कहा गया है। इसकी संख्या पाँच होनेसे ये पंचसूना कहलाते हैं।  
   −
शास्त्र के अनुसार मुख्यतः कर्म तीन प्रकार के होते हैं- नित्य, नैमित्तिक और काम्य।जिन कर्मों के करने से किसी फल की प्राप्ति न होती हो और न करने से पाप लगे उन्हें नित्यकर्म कहते हैं; जैसे त्रिकालसन्ध्या, पञ्चमहायज्ञ इत्यादि।शास्त्रों में सन्ध्या वन्दन के उपरान्त पञ्चमहायज्ञ का विधान बताया गया है। पञ्चमहायज्ञ करने से पारलौकिक लाभ तो हैं ही ऐहलौकिक आत्मोन्नति आदि अवान्तर फल की प्राप्ति होने पर भी पञ्चसूना दोष से छुटकारा पाने के लिये शास्त्रकारों की आज्ञा है कि-<blockquote>सर्वैर्गृहस्थैः पञ्चमहायज्ञा अहरहः कर्तव्याः।</blockquote>अर्थात् गृहस्थमात्र को प्रतिदिन पञ्चमहायज्ञ करने चाहिए। इससे यह स्पष्ट है कि पञ्चमहायज्ञ करने से पुण्य की प्राप्ति नहीं होती, किन्तु न करने से पाप का प्रादुर्भाव अवश्य होता है ।अतःइसलिए उन पापों की निवृत्ति के लिए नित्य क्रमश: निम्नलिखित पांच यज्ञ करने का विधान किया गया है- <blockquote>अध्यापनं ब्रह्मयज्ञः पितृयज्ञस्तुतर्पणम् । होमो देवो बलिभौं तो नृयज्ञोऽतिथिपूजनम् ॥मनुस्मृति(३/६०)।</blockquote>'''भावार्थ'''-(१)ब्रह्मयज्ञ-वेद-वेदाङ्गादि तथा पुराणादि आर्षग्रन्थोंका स्वाध्याय, (२)पितृयज्ञ-श्राद्ध तथा तर्पण, (३)देवयज्ञ-देवताओंका पूजन एवं हवन, (४)भूतयज्ञ-बलिवैश्वदेव तथा पञ्चबलि, (५)मनुष्ययज्ञ-अतिथिसत्कार-इन पाँचों यज्ञोंको प्रतिदिन अवश्य करना चाहिये।अतएव मनु जी ने कहा है-<blockquote>स्वाध्यायेन व्रतैर्होमैस्त्रैविद्येनेज्यया सुतैः। महायज्ञैश्च यज्ञैश्च ब्राह्मीयं क्रियते तनुः॥मनुस्मृति(२।२८)</blockquote>'''भाषार्थ-''' वेदाध्ययनसे, मधु-मांसादिके त्यागरूप व्रतसे, हवनसे, त्रैविद्य नामक व्रतसे, ब्रह्मचर्यावस्थामें देवर्षि-पितृतर्पण आदि क्रियाओंसे, गृहस्थाश्रममें पुत्रोत्पादनसे, महायज्ञोंसे और ज्योतिष्टोमादि यज्ञोंसे यह शरीर ब्रह्मप्राप्तिके योग्य बनाया जाता है।शतपथ ब्राह्मण में पञ्चमहायज्ञों को महासत्र के नाम से व्यवहृत किया गया है-<blockquote>पञ्चैव महायज्ञाः। तान्येव महासत्राणि भूतयज्ञो मनुष्ययज्ञः पितृयज्ञो ब्रह्मयज्ञ इति । शतपथ ब्राह्मण ११।५।६।७।</blockquote>केवल पांच ही महायज्ञ हैं, वे महान् सत्र हैं और वे इस प्रकार हैं- भूतयज्ञ, मनुष्ययज्ञ, पितृयज्ञ, देवयज्ञ एवं ब्रह्मयज्ञ।<blockquote>कण्डनी पेषणी चुल्ली उदकुम्भी च मार्जनी। पञ्चसूना गृहस्थस्य पञ्चयज्ञात्प्रणश्यति ।।</blockquote>'''अर्थ'''-कूटना, पीसना, चूल्हा, जल भरना और झाडू लगाना-पंचसूना जन्य इन सभी पापोंका शमन पंचमहायज्ञसे ही होता है। जो व्यक्ति अपने सामर्थ्यके अनुसार यह पंचमहायज्ञ करता है सभी पापोंसे वह मुक्ति पा लेता है। ये पंचमहायज्ञ अजस्ररूपसे गृहस्थोंको धन-समृद्धिसे परिपूर्ण करते हैं ।तैत्तिरीय आरण्यक(११।१०)।
+
शास्त्र के अनुसार मुख्यतः कर्म तीन प्रकार के होते हैं- नित्य, नैमित्तिक और काम्य।जिन कर्मों के करने से किसी फल की प्राप्ति न होती हो और न करने से पाप लगे उन्हें नित्यकर्म कहते हैं; जैसे त्रिकालसन्ध्या, पञ्चमहायज्ञ इत्यादि।शास्त्रों में सन्ध्या वन्दन के उपरान्त पञ्चमहायज्ञ का विधान बताया गया है। पञ्चमहायज्ञ करने से पारलौकिक लाभ तो हैं ही ऐहलौकिक आत्मोन्नति आदि अवान्तर फल की प्राप्ति होने पर भी पञ्चसूना दोष से छुटकारा पाने के लिये शास्त्रकारों की आज्ञा है कि-<blockquote>सर्वैर्गृहस्थैः पञ्चमहायज्ञा अहरहः कर्तव्याः।</blockquote>अर्थात् गृहस्थमात्र को प्रतिदिन पञ्चमहायज्ञ करने चाहिए। इससे यह स्पष्ट है कि पञ्चमहायज्ञ करने से पुण्य की प्राप्ति नहीं होती, किन्तु न करने से पाप का प्रादुर्भाव अवश्य होता है ।अतःइसलिए उन पापों की निवृत्ति के लिए नित्य क्रमश: निम्नलिखित पांच यज्ञ करने का विधान किया गया है- <blockquote>अध्यापनं ब्रह्मयज्ञः पितृयज्ञस्तुतर्पणम् । होमो देवो बलिभौं तो नृयज्ञोऽतिथिपूजनम् ॥मनुस्मृति(३/६०)।</blockquote>'''भावार्थ'''-(१)ब्रह्मयज्ञ-वेद-वेदाङ्गादि तथा पुराणादि आर्षग्रन्थोंका स्वाध्याय, (२)पितृयज्ञ-श्राद्ध तथा तर्पण, (३)देवयज्ञ-देवताओंका पूजन एवं हवन, (४)भूतयज्ञ-बलिवैश्वदेव तथा पञ्चबलि, (५)मनुष्ययज्ञ-अतिथिसत्कार-इन पाँचों यज्ञोंको प्रतिदिन अवश्य करना चाहिये।अतएव मनु जी ने कहा है-<blockquote>स्वाध्यायेन व्रतैर्होमैस्त्रैविद्येनेज्यया सुतैः। महायज्ञैश्च यज्ञैश्च ब्राह्मीयं क्रियते तनुः॥मनुस्मृति(२।२८)</blockquote>'''भाषार्थ-''' वेदाध्ययनसे, मधु-मांसादिके त्यागरूप व्रतसे, हवनसे, त्रैविद्य नामक व्रतसे, ब्रह्मचर्यावस्थामें देवर्षि-पितृतर्पण आदि क्रियाओंसे, गृहस्थाश्रममें पुत्रोत्पादनसे, महायज्ञोंसे और ज्योतिष्टोमादि यज्ञोंसे यह शरीर ब्रह्मप्राप्तिके योग्य बनाया जाता है।शतपथ ब्राह्मण में पञ्चमहायज्ञों को महासत्र के नाम से व्यवहृत किया गया है-<blockquote>पञ्चैव महायज्ञाः। तान्येव महासत्राणि भूतयज्ञो मनुष्ययज्ञः पितृयज्ञो ब्रह्मयज्ञ इति । शतपथ ब्राह्मण ११।५।६।७।</blockquote>केवल पांच ही महायज्ञ हैं, वे महान् सत्र हैं और वे इस प्रकार हैं- भूतयज्ञ, मनुष्ययज्ञ, पितृयज्ञ, देवयज्ञ एवं ब्रह्मयज्ञ।<blockquote>कण्डनी पेषणी चुल्ली उदकुम्भी च मार्जनी। पञ्चसूना गृहस्थस्य पञ्चयज्ञात्प्रणश्यति ।।</blockquote>'''अर्थ'''-कूटना, पीसना, चूल्हा, जल भरना और झाडू लगाना-पंचसूना जन्य इन सभी पापोंका शमन पंचमहायज्ञसे ही होता है। जो व्यक्ति अपने सामर्थ्यके अनुसार यह पंचमहायज्ञ करता है सभी पापोंसे वह मुक्ति पा लेता है।
    
== संस्कार ==
 
== संस्कार ==
Line 17: Line 17:  
== पञ्चमहायज्ञों का महत्व ==
 
== पञ्चमहायज्ञों का महत्व ==
 
पञ्च महायज्ञों एवं श्रौत यज्ञों में दो प्रकार के अन्तर हैं। पञ्च महायज्ञों में गृहस्थ को किसी पुरोहित की सहायता की अपेक्षा नहीं होती, किन्तु श्रौत यज्ञों में पुरोहित मुख्य हैं। गृहस्थ का स्थान केवल गौण रूप में रहता है। दूसरा अन्तर यह है कि पञ्च महायज्ञों में मुख्य उद्देश्य हैं देवता, ऋषि, पितर, जीव एवं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के प्रति अपने कर्तव्यों का पालन करना। किन्तु श्रौत यज्ञों में क्रिया की प्रमुख प्रेरणा है स्वर्ग, सम्पत्ति, पुत्र आदि की कामना। अतः पञ्च महायज्ञों की व्यवस्था में श्रौत यज्ञों की अपेक्षा अधिक नैतिकता, आध्यात्मिकता एवं प्रगतिशीलता देखने में आती है।
 
पञ्च महायज्ञों एवं श्रौत यज्ञों में दो प्रकार के अन्तर हैं। पञ्च महायज्ञों में गृहस्थ को किसी पुरोहित की सहायता की अपेक्षा नहीं होती, किन्तु श्रौत यज्ञों में पुरोहित मुख्य हैं। गृहस्थ का स्थान केवल गौण रूप में रहता है। दूसरा अन्तर यह है कि पञ्च महायज्ञों में मुख्य उद्देश्य हैं देवता, ऋषि, पितर, जीव एवं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के प्रति अपने कर्तव्यों का पालन करना। किन्तु श्रौत यज्ञों में क्रिया की प्रमुख प्रेरणा है स्वर्ग, सम्पत्ति, पुत्र आदि की कामना। अतः पञ्च महायज्ञों की व्यवस्था में श्रौत यज्ञों की अपेक्षा अधिक नैतिकता, आध्यात्मिकता एवं प्रगतिशीलता देखने में आती है।
 +
* पञ्चमहायज्ञों से आध्यात्मिकता एवं प्रगतिशीलता में वृद्धि
 +
* सभी जीवों एकात्म भाव
 +
 
* पञ्च महायज्ञों के मूल में क्या है ?
 
* पञ्च महायज्ञों के मूल में क्या है ?
    
* इनके पीछे कौन से स्थायी भाव हैं ?  
 
* इनके पीछे कौन से स्थायी भाव हैं ?  
ब्राह्मणों एवं श्रौतसूत्रों में वर्णित पवित्र श्रौत यज्ञों का सम्पादन सबके लिए सम्भव नहीं था। किन्तु अग्नि के मुख में एक समिधा डालकर सभी मनुष्य देवों के प्रति अपने सम्मान की भावना को अभिव्यक्त कर सकते थे।इसी प्रकार दो-एक श्लोकों का जप करके कोई भी प्राचीन ऋषियों, साहित्य एवं संस्कृति के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट कर सकता था। एक अञ्जलि या एक पात्र जल के तर्पण से कोई भी पितरों के प्रति भक्ति एवं प्रिय स्मृति प्रकट कर सकता था और पितरों को सन्तुष्ट कर सकता था। सारे विश्व के प्राणी एक ही सृष्टि-बीज के द्योतक हैं अतः सबमें आदान-प्रदान का प्रमुख सिद्धान्त कार्य रूप में उपस्थित रहना चाहिए । उपर्युक्त वर्णित भक्ति, कृतज्ञता, सम्मान, प्रिय स्मृति, उदारता की भावनाओं ने  सनातन धर्म को मानने वालों के लिये पञ्च महायज्ञों के महत्व को प्रकट किया।  
+
ब्राह्मणों एवं श्रौतसूत्रों में वर्णित पवित्र श्रौत यज्ञों का सम्पादन सबके लिए सम्भव नहीं था। किन्तु अग्नि के मुख में एक समिधा डालकर सभी मनुष्य देवों के प्रति अपने सम्मान की भावना को अभिव्यक्त करते हैं वह देवयज्ञ कहलाता है।इसी प्रकार दो-एक श्लोकों का जप अथवा वेद का स्वाध्याय करके कोई भी प्राचीन ऋषियों, साहित्य एवं संस्कृति के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट कर सकता है वह  ब्रह्मयज्ञ कहलाता है। एक अञ्जलि या एक पात्र जल के तर्पण से कोई भी पितरों के प्रति भक्ति एवं प्रिय स्मृति प्रकट कर सकता और पितरों को सन्तुष्ट कर सकता है वह पितृयज्ञ कहलाता है। सारे विश्व के प्राणी एक ही सृष्टि-बीज के द्योतक हैं अतः सबमें आदान-प्रदान का प्रमुख सिद्धान्त कार्य रूप में उपस्थित रहना चाहिए अतिथियों को भोजन कराकर भोजन करना चाहिये यह मनुष्य यज्ञ कहलाता है एवं जीवों को बलि के रूप में भोजन का ग्रास अथवा पिण्ड अर्पित किये जाने से भूतयज्ञ कहलाता है। पञ्चमहायज्ञ करनेसे अन्नादिकी शुद्धि और पापोंका क्षय होता है। पञ्चमहायज्ञ किये बिना भोजन करनेसे पाप लगता है। जैसा कि भगवान् श्रीकृष्ण जी ने गीता में कहा है- <blockquote>यज्ञशिष्टाशिनः सन्तो मुच्यन्ते सर्वकिल्विषैः । भुञ्जते ते त्वघं पापा ये पचन्त्यात्मकारणात् ॥ गीता ( ३।१३ )</blockquote>'''अर्थ-'''यज्ञसे शेष बचे हुए अन्नको खानेवाले श्रेष्ठ पुरुष पञ्चहत्याजनित समस्त पापोंसे मुक्त हो जाते हैं, किन्तु जो पापी केवल अपने लिये ही पाक बनाते हैं, वे पापका ही भक्षण करते हैं।महाभारतमें भी कहा है-<blockquote>अहन्यहनि ये त्वेतानकृत्वा भुञ्जते स्वयम् । केवलं मलमश्नन्ति ते नरा न च संशयः॥</blockquote>'''अर्थ-'''जो प्रतिदिन इन पञ्चमहायज्ञों को किये बिना भोजन करते हैं, वे केवल मल खाते हैं, इसमें कोई सन्देह नहीं।मनु जी की आज्ञा है कि-<blockquote>पञ्चैतान् यो महायज्ञान्नहापति शक्तितः। स गृहेऽपि वसन्नित्यं सूनादोषो न लिप्यते ॥( मनु० ३/७१ )</blockquote>'''अर्थ'''-जो गृहस्थ शक्ति के अनुकूल इन पञ्चमहायज्ञों का एक दिन भी परित्याग नहीं करते, वे गृहस्थाश्रम में रहते हुए भी प्रतिदिन के पञ्चसूनाजनित पापके भागी नहीं होते। महर्षि गर्ग ने भी कहा है-<blockquote>पञ्चयज्ञांस्तु यो मोहान्न करोति गृहाश्रमी तस्य नायं न च परो लोको भवति धर्मतः॥</blockquote>महर्षि हारीत ने कहा है-<blockquote>यत्फलं सोमयागेन प्राप्नोति धनवान् द्विजः। सम्यक पञ्चमहायज्ञे दरिद्रस्तवामुयात् ॥</blockquote>'''अर्थ'''-धनवान् द्विज सोमयाग करके जो फल प्राप्त करता है, उसी फलको दरिद्र पञ्चमहायज्ञ के द्वारा प्राप्त कर सकता है।अतः पञ्चमहायज्ञ करके ही गृहस्थोंको भोजन करना चाहिये। पञ्चमहायज्ञके महत्त्व एवं इसके यथार्थ स्वरूप को जानकर द्विजमात्र का कर्तव्य है कि वे अवश्य पञ्चमहायज्ञ किया करें-ऐसा करनेसे धर्म, अर्थ, काम और मोक्षकी प्राप्ति होगी। उपर्युक्त वर्णित भक्ति, कृतज्ञता, सम्मान, प्रिय स्मृति, उदारता की भावनाओं ने  सनातन धर्म को मानने वालों के लिये पञ्च महायज्ञों के महत्व को प्रकट किया।
   −
इन यहाँ दिया जा रहा है-
+
= पंचमहायज्ञों का विस्तृत विवेचन =
 +
शास्त्र के अनुसार
   −
= पंचमहायज्ञों का विस्तृत विवेचन =
+
आपस्तम्बधर्मसूत्र एवं अन्य ग्रन्थों में पांचों यज्ञों का क्रम है -भूतयज्ञ, मनुष्ययज्ञ, देवयज्ञ, पितृयज्ञ एवं स्वाध्याय, किन्तु उनके सम्पादन के कालों के अनुसार उनका क्रम होना चाहिए ब्रह्मयज्ञ (जप आदि), देवयज्ञ, मूतयज्ञ, पितृयज्ञ एवं मनुष्ययज्ञ। हम इसी क्रम से पांचों का विवेचन करेंगे। पञ्चमहायज्ञों का विवेचन इस प्रकार है-
    
====ब्रह्मयज्ञ====
 
====ब्रह्मयज्ञ====
153

edits

Navigation menu