Difference between revisions of "जो जैसा करता है वैसा भरता है"

From Dharmawiki
Jump to: navigation, search
(सम्पादित किया)
(सम्पादित किया)
 
(5 intermediate revisions by the same user not shown)
Line 1: Line 1:
एक समय की बात है एक गांव में पारसमल नाम के एक व्यापारी रहते थे। उनका काम धंधा कुछ मंदा चल रहा था, इसलिए उसने धन कमाने के लिए उन्होंने शहर में जाने का फैसला किया। उनके पास न धन थे नहीं पुरखो की कोई मूल्यवान वस्तु थी। केवल उनके पास एक लोहे का वजन करने का तराजू था। उस तराजू को उन्होंने गिरवी रखकर बदले में कुछ रुपये ले लिए। पारसमल ने साहूकार से कहा कि वह शहर से लौटकर अपना उधार चुका कर तराजू वापस ले लेगा।
+
एक समय की बात है एक बच्चा था जो बहुत ही गरीब परिवार में जन्मा था । वह छोटा ही था की उसके माँ और पिताजी दोनों की बीमारी कारण मौत हो गई । बच्चा अकेला रह गया और उसे खाने पिने की बहुत तकलीफ होने लगी थी । वह अपना पेट भरने के लिए घूम घूमकर सामान बेचता  था और उसी से अपनी स्कूल की फ़ीस भरता था ।
  
दो साल बाद वह शहर से लौटकर अपने गांव आया और अपना तराजू वापस लेने सहकर के घर गया। साहूकार बोला कि उस तराजू को चूहों ने खा लिया। पारसमल समझ गया कि साहूकार की नियतमें खोट आ हो गई है और वह मेरा तराजू वापस करना नहीं चाहता। तभी पारसमल के दिमाग में एक युक्ति सूझी। उसने साहूकार से कहा कि कोई बात नहीं अगर तराजू चूहों ने खा लिया है, तो इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है। सारी गलती उन चूहों की है।
+
वो भीषण गर्मी के दिन थे बच्चा घूम घूमकर सामान बेच रहता परन्तु कोई खरीदार नहीं था सारा सामान उसका ऐसे ही पड़ा था दोपहर हो गई थी । उसे बहुत जोरो की भूख और प्यास दोनों लगी थी परन्तु वह सोच रहा था की कुछ सामान बिक जाये तो उन पैसे से कुछ लेकर खालूँगा परन्तु कुछ भी बिका नहीं । उसकी हालत बहुत ही ख़राब हो चली थी । उसने अब विचार किया की अब जो भी घर आएगा उस घर से पिने के लिए पानी और कुछ खाने के लिए भी मांग लूँगा ।
  
थोड़ी देर बाद उसने साहूकार से कहा कि दोस्त मैं नदी में नहाने जा रहा हूं। तुम अपने बेटे को भी मेरे साथ भेज दो। वो भी मेरे साथ नहा आएगा। साहूकार पारसमल के व्यवहार से बहुत खुश था, इसलिए उसने पारसमल के साथ अपने बेटे को नहाने के लिए नदी पर भेज दिया। पारसमल ने साहूकार के बेटे को नदी से से कुछ दूर ले जाकर एक गुफा में बंद कर दिया। उसने गुफा के दरवाजे पर बड़ा-सा पत्थर रख दिया, जिससे साहूकार का बेटा बचकर भाग न पाए। साहूकार के बेटे को गुफा में बंद करके जीर्णधन वापस साहूकार के घर आ गया। उसे अकेला देखकर साहूकार ने पूछा कि मेरा बेटा कहां हैं। जीर्णधन बोला कि माफ करना दोस्त तुम्हारे बेटे को चील उठाकर ले गई है।
+
अब एक घर के बाहर खड़े होकर उसने आवाज लगाई , घर के अन्दर से एक लडकी बहार आई , उसने पूछा कहिये क्यों आवाज दे रहे हो? लड़के ने कहा "जी प्यास लगी है पानी मिल सकता है क्या पिने के लिए बहुत प्यास लगी है, " परन्तु खाने के लिए कुछ ना मांग सका । उस लडकी ने बच्चे को देखकर ही समझ गई थी की यह बहुत भूखा है, इसलिए उसने पानी के साथ एक गिलास में दूध भी ले आई और उस लडके दे दी पिने के लिए । बच्चे ने हिचकते हुए दूध को पी लिया और "उस दूध का कितना मूल्य होगा ?" ऐसा उस लड़की से पुछा। लड़की ने कहा कोई बात नहीं, पैसे नहीं चाहिए ।
  
साहूकार हैरान रह गया और बोला कि ये कैसे हो सकता है? चील इतने बड़े बच्चे को कैसे उठा ले जा सकती है? जीर्णधन बोला जैसे चूहे लोहे के तराजू को खा सकते हैं, वैसे ही चील भी बच्चे को उठाकर ले जा सकती है। अगर बच्चा चाहिए, तो तराजू लौटा दो।
+
कई वर्षो के बाद उस लड़की की तबियत बहुत अधिक ख़राब हो गई थी ।उसे हस्पताल ले जाना पड़ा डॉक्टर ने बहुत मेहनत करके उसकी जान बचाई । जब वह ठीक हो गई तो उसे खर्च का बिल दिया गया , वह घबरा गई बिल देखकर क्योकि उसके पास बील भरने के लिए पैसे नहीं थे । फिर उसने बिल के निचे देखा जहाँ लिखा था आपका बिल भर दिया गया है आपको भरने की आवश्नयकता नहीं है
  
जब अपने ऊपर मुसीबत आई तब साहूकार को अक्ल आई। उसने जीर्णधन का तराजू वापस कर दिया और जीर्णधन ने साहूकार के बेटे को आजाद कर दिया।
+
वह पढ़कर लडकी आश्चर्य चकित हो गई उसे समझ नहीं आया क्या है ? बिल के साथ एक पत्र भी था उस पत्र को लडकी ने पढ़ा जिसमे लिखा था की आपके दूध का कर्ज है। धन्यवाद् अगर आपने उस दिन मेरी मदत ना की होती तो मै आज यह नहीं बन पाता । 
  
==== '''कहानी की सीख''' ====
+
==== '''कहानी की सीख : -''' जो जैसा कर्म और व्यवहार करता है उसके उसे उसका फल अवश्य मिलाता है, गलत करेंगे तो गलत सही करेंगे तो सही परिणाम मिलेगा, इसलिए हमें हमेश जरुरत मंद लोगो की बिना बोले मदद करनी चाहिए। कभी अधीर नहीं होना चाहिए , धैर्य के साथ अपना कर्म कारण चाहिए फल अवश्य मिलाता है ।  ====
जो जैसा व्यवहार करता है उसके साथ वैसा व्यवहार करो, ताकि उसे अपने गलती का अहसास हो जाए।
+
इसी विषय के लिए कबीर जी ने लिखा है
 +
 
 +
धीरे धीरे रे मना ,धीरे सब कुछ होय । माली सोंचे सौ घड़ा ,ऋतू आये फल होय ।।

Latest revision as of 16:36, 29 July 2020

एक समय की बात है एक बच्चा था जो बहुत ही गरीब परिवार में जन्मा था । वह छोटा ही था की उसके माँ और पिताजी दोनों की बीमारी कारण मौत हो गई । बच्चा अकेला रह गया और उसे खाने पिने की बहुत तकलीफ होने लगी थी । वह अपना पेट भरने के लिए घूम घूमकर सामान बेचता था और उसी से अपनी स्कूल की फ़ीस भरता था ।

वो भीषण गर्मी के दिन थे बच्चा घूम घूमकर सामान बेच रहता परन्तु कोई खरीदार नहीं था सारा सामान उसका ऐसे ही पड़ा था दोपहर हो गई थी । उसे बहुत जोरो की भूख और प्यास दोनों लगी थी परन्तु वह सोच रहा था की कुछ सामान बिक जाये तो उन पैसे से कुछ लेकर खालूँगा परन्तु कुछ भी बिका नहीं । उसकी हालत बहुत ही ख़राब हो चली थी । उसने अब विचार किया की अब जो भी घर आएगा उस घर से पिने के लिए पानी और कुछ खाने के लिए भी मांग लूँगा ।

अब एक घर के बाहर खड़े होकर उसने आवाज लगाई , घर के अन्दर से एक लडकी बहार आई , उसने पूछा कहिये क्यों आवाज दे रहे हो? लड़के ने कहा "जी प्यास लगी है पानी मिल सकता है क्या पिने के लिए बहुत प्यास लगी है, " परन्तु खाने के लिए कुछ ना मांग सका । उस लडकी ने बच्चे को देखकर ही समझ गई थी की यह बहुत भूखा है, इसलिए उसने पानी के साथ एक गिलास में दूध भी ले आई और उस लडके दे दी पिने के लिए । बच्चे ने हिचकते हुए दूध को पी लिया और "उस दूध का कितना मूल्य होगा ?" ऐसा उस लड़की से पुछा। लड़की ने कहा कोई बात नहीं, पैसे नहीं चाहिए ।

कई वर्षो के बाद उस लड़की की तबियत बहुत अधिक ख़राब हो गई थी ।उसे हस्पताल ले जाना पड़ा डॉक्टर ने बहुत मेहनत करके उसकी जान बचाई । जब वह ठीक हो गई तो उसे खर्च का बिल दिया गया , वह घबरा गई बिल देखकर क्योकि उसके पास बील भरने के लिए पैसे नहीं थे । फिर उसने बिल के निचे देखा जहाँ लिखा था आपका बिल भर दिया गया है आपको भरने की आवश्नयकता नहीं है ।

वह पढ़कर लडकी आश्चर्य चकित हो गई उसे समझ नहीं आया क्या है ? बिल के साथ एक पत्र भी था उस पत्र को लडकी ने पढ़ा जिसमे लिखा था की आपके दूध का कर्ज है। धन्यवाद् अगर आपने उस दिन मेरी मदत ना की होती तो मै आज यह नहीं बन पाता ।

कहानी की सीख : - जो जैसा कर्म और व्यवहार करता है उसके उसे उसका फल अवश्य मिलाता है, गलत करेंगे तो गलत सही करेंगे तो सही परिणाम मिलेगा, इसलिए हमें हमेश जरुरत मंद लोगो की बिना बोले मदद करनी चाहिए। कभी अधीर नहीं होना चाहिए , धैर्य के साथ अपना कर्म कारण चाहिए फल अवश्य मिलाता है ।

इसी विषय के लिए कबीर जी ने लिखा है

धीरे धीरे रे मना ,धीरे सब कुछ होय । माली सोंचे सौ घड़ा ,ऋतू आये फल होय ।।